सामाजिक सुरक्षा पेंशन पाने के हकदार, लगा रहे  गुहार, अब तो पेंशन दे दो, सरकार,,,

# 11 Jul, 2018 Views: 649


         खासखबर बिलासपुर निराश्रित,वृध्द,विधवा,परित्यकता,निःशक्त,और  गरीब लोगों को सरकार सामाजिक सुरक्षा प्रदान करनें के लिये पेंशन के रुप में एक निर्धारित राशि उपलब्ध कराती है ताकि वो अपना भरण पोषण कर सकें। लेकिन बिलासपुर जिला पंचायत अन्र्तगत कोटा,तखतपुर,मस्तुरी,बिल्हा,पेन्ड्रा,गौरेला और मरवाही जनपद के पंचायतों में ऐसे हजारों निराश्रित बुजूर्ग निवास करते हैं जिन्हे सरकार की महत्वपूर्ण सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। सरकार और जनता के बीच सरकार की योजनाओं का लाभ दिलाने वाले लोक सेवक भी जान कर, अंजान बने हुए हैं।


        
                      गांव में नहीं होते वृध्द आश्रम,
          गांधी जी कहते थे कि असली भारत, गांव में बसता है, और सरकारी आंकडे कहते हैं, कि भारत की  सत्तर प्रतिशत आबादी गांव में बसती है। गांव में शहरों की तरह वृध्द आश्रम नहीं होते, लेकिन गांव में भी निराश्रित,वृध्द,विधवा,परित्यकता,निःशक्त उम्रदराज लोग निवास करते हैं, जिन्हे उनके अपनों नें बेसहारा छोड दिया है, उनके लिये दो वक्त की रोटी का इंतजाम करना मुश्किल हो रहा है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि ऐसे बुजूर्गों को शासन की महत्पूर्ण योजना सामाजिक सुरक्षा पेंशन का योजना का लाभ नहीं मिल रहा है।


               क्या है निराश्रित बेसहारा बुजूर्गो की समस्या
    आदिवासी बाहुल्य जनपद के पंचायतों में सैकडों ऐसे बुजूर्ग हैैं जिनके पास सरकारी योजना से बना गरीबी रेखा राशन कार्ड तो है, लेकिन पैसे के अभाव में वो राशन नहीं ले पा रहे है। जिन्हें पेंशन मिलती हैं उन्हे दस दस माह से मिली नहीं है ऐसे में सरकार की सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना, ना केवल दम तोड रही वरन योजना को लेकर लोंगों का भरोसा टुट रहा है,वहीं ऐसे लोगों की सेवा करनें का शपथ लेकर, सरकार में पदस्थ अधिकारियों में भी इनके प्रति कोई संवेदना दिखालाई नहीं देती है। ये जरुर है कि धरातल पर जाये बगैर ही अधिकारी कागजों में बडे बडे दावे करते नजर आते है।


      अपात्र,ले रहे, सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना का लाभ
 सामाजिक सुरक्षा पेंशन पानें अपात्र, तरह तरह के हथकंडे अपनाकर सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना का लाभ ले रहे हैं और पात्र हितग्राही आज भी पेंशन योजना के लाभ से वंचित है। पेंशन लाभ पानें दफतर का चक्कर काटने मजबूर है। वहीं उच्च अधिकारी सर्वेक्षण की दलील देकर जिम्मेदारी से पल्ला झाडते नजर आ रहे हंै।


                पेंशन राशि घोटाला, शर्मसार हुआ प्रशासन
        गरीबों के लिये बनाई गई सामाजिक सुरक्षा पेंशन राशि भी हडप करने के मामले में मस्तुरी जनपद पंचायत कें 95 पंचायतांे में एक करोड बीस लाख पेंशन घोटाले का मामला सामने आया था, जिसकी जांच 177 अफसरों से कराई गई थी। घोटाले में जनपद के अधिकारियों सहित सरपंच सचिव भी शामिल थे। बावजूद इसके आज भी बहुत से ग्राम पंचायतों में गरीबों को मिलने वाली पेंशन राशि के साथ गडबडी की शिकायत सामनें आ रही है। 

             क्या कहतें हैं पेंशन लाभ पाने से वंचित हितग्राही  
                    जिले के सात जनपद पंचायतों के अन्र्तगत आने वाले छह सौ पैतालीस ग्राम पंचायतों में ऐसे लाखों हितग्राही हैं जिन्हे सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना का लाभ मिल रहा है, लेकिन हमें नहीं। उनका कहना है कि हमनें गा्रम सुराज,लोक सुराज,जन समस्या निवारण शिविर,सरपंच सचिव,विधायक,सभी को आवेदन दिया है लेकिन हम बेसहारों को आश्वासन मिला, पेंशन नहीं।
                     फिलहाल सरकार के विकास के दावों से ज्यादा जरुरी है बैसाखियों पर जिन्दगी जी रहे, गरीबी रेखा के नीचे जीवन व्यापन करने वाले इन निःशक्त ग्रामीणों का निराश्रित पेंशन का लाभ दिलाना, ताकि ये भी सरकार से प्राप्त आर्थिक सहायता से सम्मानपूर्वक जीवन व्यापन कर सकें। 

Banner